फैक्ट्स

फ़ैक्ट-चेक : 20 हज़ार निहंग सिख किसान प्रदर्शन में हिस्सा लेने के लिए दिल्ली रवाना हुए?

केंद्र सरकार के नए किसान कानूनों के खिलाफ़ किसानों का ‘दिल्ली चलो’ प्रदर्शन चल रहा है. सरकार के बुराड़ी मैदान में प्रदर्शन करने के प्रस्ताव को किसान संगठनों ने ठुकरा दिया. रामलीला मैदान में प्रदर्शन करने की मांग पर वो अड़े हैं और दिल्ली की सीमा पर डटे हुए हैं. इस बीच सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर करते हुए दावा किया गया कि पंजाब से 20 हज़ार निहंग सिंह किसान ‘दिल्ली चलो’ आंदोलन में

फैक्ट्स

नारे लिखे बैनर की 2018 की तस्वीर चालू किसान प्रदर्शन से जोड़कर की जा रही शेयर

सोशल मीडिया पर किसानों के प्रदर्शन को बदनाम करने के लिए कई तरह की ग़लत जानकारियां फैल रही हैं. कभी कंगना रानौत बुजुर्ग महिला किसान महिंदर कौर की तस्वीर शेयर करते हुए दावा करती हैं कि शाहीन बाग़ वाली दादी बिलकिस बानो 100 रुपये के लिए प्रदर्शन में शामिल हुई हैं. तो कभी BJP आईटी सेल हेड अमित मालवीय अधूरी वीडियो क्लिप शेयर करते हुए दावा करते हैं कि पुलिस ने किसानों पर लाठी नहीं

फैक्ट्स

निहंग सिखों के एक पुराने वीडियो को वर्तमान में किसान आंदोलन से जोड़ फैलाया जा रहा है| – FactCrescendo

किसान बिल को लेकर देश के अलग अलग राज्यों में किसान आंदोलन कर रहे है | इस आंदोलन को लेकर सोशल मीडिया पर कई भ्रामक दावों के साथ कई तस्वीरें और वीडियो को फैलाया जा रहा है | फैक्ट क्रेसेंडो ने पूर्व में भी इस आंदोलन से संबंधित गलत व भ्रामक पोस्टों का खंडन करते हुए फैक्ट चेक किया है | वर्तमान में चल रहे एक वायरल वीडियो को इस आंदोलन से जोड़कर फैलाते हुए

फैक्ट्स

पूर्व सैन्य अधिकारी की पिटाई के दावे के साथ वायरल हो रहा यह कोलाज है भ्रामक

केंद्र द्वारा बनाये गए नए कृषि कानून के खिलाफ किसानों का आंदोलन चल रहा है। ऐसे में सोशल मीडिया पर किसान आंदोलन से संबंधित कई तस्वीरें और वीडियोज शेयर की जा रही हैं। ट्विटर पर एक तस्वीर वायरल हो रही है। इस तस्वीर में एक महिला को पुलिसकर्मियों से अकेले मुकाबला करते देखा जा सकता है। दावा किया जा रहा है कि यह तस्वीर हाल में चल रहे किसान आंदोलन की है। इस तस्वीर को

फैक्ट्स

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन का फोटोशॉप्ड ट्वीट सोशल मीडिया पर हुआ वायरल

केंद्र द्वारा बनाये गए नए कृषि कानून के खिलाफ किसानों का आंदोलन चल रहा है। ऐसे में सोशल मीडिया पर किसान आंदोलन से संबंधित कई तस्वीरें और वीडियोज शेयर की जा रही हैं। ट्विटर पर एक तस्वीर वायरल हो रही है। इस तस्वीर में एक महिला को पुलिसकर्मियों से अकेले मुकाबला करते देखा जा सकता है। दावा किया जा रहा है कि यह तस्वीर हाल में चल रहे किसान आंदोलन की है। इस तस्वीर को

फैक्ट्स

Fact Check: The injured farmer seen in the picture is not retired Captain Dhillon

By Vishvas News Updated: December 2, 2020 नई दिल्ली (विश्वास न्यूज़)। किसानों के दिल्ली प्रदर्शन को लेकर सोशल मीडिया पर कई फर्जी और भ्रामक खबरें वायरल हो रही हैं। ऐसी ही एक पोस्ट सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है, जिसमें 2 बुज़ुर्ग सिख व्यक्तियों की तस्वीरों के कोलाज को देखा जा सकता है। पहली तस्वीर में बैठे व्यक्ति ने भारतीय सेना की वर्दी पहनी है और दूसरी तस्वीर में बैठा

फैक्ट्स

हाल फिलहाल में चल रहे किसान आंदोलन में महिला ने पुलिस को नहीं दिखाई लाठी

सोशल मीडिया पर 15 सेकेंड की एक वीडियो वायरल हो रही है। इस वीडियो में एक सिख व्यक्ति खालिस्तान-पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाता हुआ नज़र आ रहा है। दावा किया जा रहा है कि यह वीडियो किसानों द्वारा किए जा रहे विरोध प्रदर्शन की है। वीडियो को शेयर करते हुए यह भी कहा जा रहा है कि सरदार जी, मोदी सरकार हाय-हाय के नारे लगा रहे हैं। यह तो समझ आता है। लेकिन यह पाकिस्तान

फैक्ट्स

फ़ैक्ट-चेक : किसान आन्दोलन के दौरान घायल हुआ रिटायर्ड आर्मी अफ़सर?

वर्तमान में चल रहे किसानों के प्रदर्शन को लेकर सोशल मीडिया पर कई ग़लत सूचनाएं शेयर की जा रही हैं और आन्दोलन को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है. हाल ही में बिल्किस बानो की तस्वीर और डॉ. राजकुमारी बंसल के भी आन्दोलन में हिस्सा लेने का फ़र्ज़ी दावा किया गया था. अब कई फे़सबुक और ट्विटर यूज़र्स एक साथ दो तस्वीरें शेयर कर रहे जिसमें एक सिख व्यक्ति मिलिट्री पोशाक में और

फैक्ट्स

वायरल तस्वीर में दिख रहे सेना के अफसर और ज़ख्मी किसान दो अलग- अलग शख्स है, इन दोनों को एक व्यक्ति बता वायरल किया जा रहा है। – FactCrescendo

देश में चल रहे किसान आंदोलन के चलते सोशल मंचो पर कई वीडियो व तस्वीरें वायरल होती चली आ रही है। फैक्ट क्रेसेंडो ने ऐसे कई गलत व भ्रामक तस्वीरें व वीडियो का अनुसंधान किया है। इन दिनों सोशल मंचो 2 तस्वीरें वायरल हो रही है, जिसमें आप एक तस्वीर में सेना के अफसर को देख सकते है और दूसरी तस्वीर में आप एक ज़ख्मी बुजुर्ग को देख सकते है। तस्वीर के साथ जो दावा

फैक्ट्स

Fact Check: This is not a video of Ahmed Patel’s funeral

By Vishvas News Updated: December 2, 2020 नई दिल्‍ली (Vishvas News)। सोशल मीडिया में कांग्रेस के दिवंगत नेता अहमद पटेल को लेकर एक फर्जी वीडियो वायरल हो रहा है। यूजर्स दावा कर रहे हैं कि वायरल वीडियो अहमद पटेल के जनाजे का है। वीडियो में जनाजे में उमड़ी भीड़ को देखा जा सकता है। विश्‍वास न्‍यूज ने वायरल पोस्‍ट की जांच की। हमें पता चला कि महाराष्‍ट्र के ठाणे के मनसे

फैक्ट्स

Viral video of misbehave with Sikh man now being falsely linked to farmer protest

By Vishvas News Updated: December 2, 2020 नई दिल्‍ली (Vishvas News)। सोशल मीडिया में एक बार फिर से एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें पुलिस को पगड़ी पहने हुए एक सिख युवक को ले जाते हुए देखा जा सकता है। यूजर्स दावा कर रहे हैं किसान आंदोलन में नजीर मोहम्‍मद नाम का एक शख्‍स पकड़ाया है। दावा किया जा रहा है कि वीडियो उसी घटना का है। विश्‍वास न्‍यूज ने

फैक्ट्स

क्या मौजूदा किसान आंदोलन की है वायरल हो रही यह वीडियो क्लिप?

केंद्र सरकार द्वारा नए कृषि कानून लागू किए जाने के बाद से पंजाब, हरियाणा सहित कई अन्य राज्यों के किसानों ने इस बिल को लेकर विरोध प्रदर्शन करना शुरू कर दिया है। जिसके बाद से सोशल मीडिया पर किसान आंदोलन को लेकर तरह-तरह की तस्वीरें व खबरें खूब वायरल हो रही हैं। ऐसे में कई पुरानी तस्वीरों के माध्यम से फेक न्यूज़ भी फैलाई जा रही है। इसी दौरान सोशल मीडिया पर एक महिला की

फैक्ट्स

रवीश कुमार की 2018 की तस्वीर को अब उनका मज़ाक उड़ाने के लिए किया जा रहा इस्तेमाल

30 नवम्बर को टाइम्स ऑफ़ इंडिया ने एक वीडियो रिपोर्ट में बताया कि किसान प्रदर्शन के दौरान गाज़ीपुर में बिरयानी बांटी जा रही है. गाज़ीपुर UP-दिल्ली का बॉर्डर है जहां किसान प्रदर्शन कर रहे हैं. हालांकि इस वीडियो में खाने की जो भी चीज़ है, उसे बिरयानी तो नहीं कहा जा सकता मगर हां, पुलाव की याद ज़रूर आती है. इस वजह से टाइम्स ऑफ़ इंडिया की सोशल मीडिया पर काफी आलोचना भी हुई. इसके

फैक्ट्स

Fact Check: The viral list of symptoms is not issued by AIIMS

By Vishvas News Updated: December 2, 2020 नई दिल्ली (विश्वास टीम)। सोशल मीडिया पर एक पोस्ट वायरल हो रही है, जिसमें दावा किया जा रहा है कि AIIMS अस्पताल ने कोरोनावायरस व अन्य रेस्पिरेटरीज डिजीजेज के लक्षणों को लेकर स्टेटमेंट जारी की है। विश्वास न्यूज ने पड़ताल में पाया कि वायरल पोस्ट का AIIMS से कोई लेना-देना नहीं है। यह पोस्ट फर्जी है। क्या है वायरल पोस्ट में? फेसबुक यूजर Rajkumar

फैक्ट्स

Fact Check: This viral piece of news related to the 66 fake EVM machines seized from BJP leader’s house is old

By Vishvas News Updated: December 2, 2020 नई दिल्ली (विश्वास टीम)। सोशल मीडिया पर एक न्यूजपेपर की क्लिपिंग वायरल हो रही है, जिसमें खबर का शीर्षक है- “भाजपा नेता के घर से 66 नकली ईवीएम जब्त”। सोशल मीडिया पर लोग इसे ताजा घटना मान कर साझा कर रहे हैं। विश्वास न्यूज ने पड़ताल में पाया कि वायरल क्लिपिंग दो साल पुरानी खबर की है। खबर राजस्थान के ब्यावर से थी और

फैक्ट्स

Fact Check: Old image of meeting between Smriti Irani and Owaisi viral with false claims of secret pact between BJP and AIMIM before local polls

By Vishvas News Updated: December 2, 2020 नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। सोशल मीडिया पर वायरल हो रही एक तस्वीर में असदुद्दीन ओवैसी को केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के साथ देखा जा सकता है। दावा किया जा रहा है कि यह तस्वीर ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव (जीएचएमसी) से संबंधित है। सोशल मीडिया पर कई अन्य यूजर्स ने इस तस्वीर को ग्रेटर हैदराबाद ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम के चुनाव से पहले हुई

फैक्ट्स

फ़ैक्ट-चेक : किसान आन्दोलन में भाग लेती दिखीं ‘हाथरस वाली भाभी’?

भारतीय जनता युवा मोर्चा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष संतोष रंजन राय ने एक महिला की तस्वीर शेयर करते हुए लिखा, “हाथरस वाली भौजी आज किसान बनी है…” तस्वीर में लाल पोशाक पहने महिला के पीछे सिख प्रदर्शनकारी खड़े हैं. जबलपुर की डॉक्टर राजकुमारी बंसल, जिन्हें हाथरस पीड़िता के घर में देखा गया था और लोगों ने इनके बारे में ग़लत सूचनाएं शेयर कीं थीं, पर नक्सली होने और प्रेस को गवाही देने के लिए हाथरस पीड़िता के

फैक्ट्स

भीमराव आम्बेडकर के नाम पर सोशल मीडिया में शेयर किया गया भ्रामक दावा

केंद्र सरकार द्वारा नए कृषि कानून लागू किए जाने के बाद से पंजाब, हरियाणा सहित कई अन्य राज्यों के किसानों ने इस बिल को लेकर विरोध प्रदर्शन करना शुरू कर दिया है। जिसके बाद से सोशल मीडिया पर किसान आंदोलन को लेकर तरह-तरह की तस्वीरें व खबरें खूब वायरल हो रही हैं। ऐसे में कई पुरानी तस्वीरों के माध्यम से फेक न्यूज़ भी फैलाई जा रही है। इसी दौरान सोशल मीडिया पर एक महिला की

फैक्ट्स

2018 महाराष्ट्र में हुए किसान आंदोलन की तस्वीर को वर्तमान किसान आंदोलन से जोड़कर वायरल किया जा रहा है। – FactCrescendo

हालही में चल रहे किसान आंदोलन को लेकर सोशल मंचो पर कई वीडियो व तस्वीरें गलत दावों के  साथ वायरल होती चली आ रही है, इन दिनों इंटरनेट पर एक तस्वीर काफी चर्चा में है, उस तस्वीर में आपको हज़ारों की तादाद में लोग रास्ते पर बैठे हुए नज़र आएंगे। तस्वीर के साथ जो दावा वायरल हो रहा है, उसके मुताबिक यह तस्वीर दिल्ली की है, जहाँ किसान आंदोलन करते हुए पहुँचे है। वायरल हो

फैक्ट्स

2018 में महाराष्ट्र में किसानों की पैदल यात्रा की तस्वीर हाल के ‘दिल्ली चलो’ आंदोलन की बताकर शेयर

किसानों का ‘दिल्ली चलो’ आंदोलन जारी है. किसानों के काफ़िले को दिल्ली में प्रवेश करने से रोकने के लिए पुलिस अपना पूरा दम लगा रही है. सोशल मीडिया पर किसानों के प्रदर्शन को लेकर यूज़र्स अपनी-अपनी राय शेयर कर रहे हैं. इस दौरान किसानों के इस आंदोलन से संबंधित बताकर कई पुरानी तस्वीरें और वीडियोज़ शेयर किये गए. इस बीच सड़क पर बैठे सैकड़ों लोगों की एक तस्वीर शेयर की जा रही है. दावा है