सोशल मीडिया पर एक स्क्रीनशॉट शेयर किया गया जिसमे एक तस्वीर भी है इसके साथ दावा है जम्मू की रोहिंग्या कॉलोनियों में एक-एक दंपती के कम से कम 10 से 12 बच्चे हैं। पिक्चर में बहुत सारे बच्चे कतार में खड़े हैं और बीच में एक शख्स छड़ी लेकर खड़ा है। फैक्ट चेक में आया तस्वीर म्यांमार रिफयूजी कम्प की है, साल 2015 में खींची थी। शेयर दावा गलत है।

 नवभारत टाइम्स refugee camp pic shared with fake claim

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *