सोशल मीडिया पर तेज़ी से वायरल वीडीयो में एक व्यक्ति दुर्गा पंडाल में बज रहें संगीत को बंद करवाते दिख रहा हैं और असलम भाई का भी ज़िक्र करते, उसे सुना जा सकता है।यह वीडीयो 2019 का हैं और इसे टिक-टाँक स्टाइल में मज़ाक़ के तौर पर बनाया गया था। पड़ताल में पता चला की संगीत बंद करवाने वाले शख़्स का नाम आशीष सिंह हैं।

Vishvas News

सोशल मीडिया पर वायरल वीडीयो में लोग “मामा नही कसाई हैं, कंस का जुड़वा भाई हैं” बोलते सुनाई दे रहे हैं। ।यह वीडीयो उस वक़्त शेयर किया जा रहा हैं, जब मप्र में उपचुनाव होने वाले हैं।पड़ताल में यह पता लगा की वीडीयो अक्टूबर 2018 का हैं। जब सतना में आशा कार्यकर्ताओं ने CM शिवराज सिंह की अर्थी निकाल कर विरोध प्रदर्शन किया था।

Alt News

Alt News

 

 

भाजपा सदस्य सुरेंद्र पुनिया ने फ़्रांस में हुई टीचर की हत्या पर 22 अक्टूबर को प्रवासी भावनाओं को बढ़ाने वाला ट्वीट किया। जिसमें कुछ साल पहले फ़्रांस के लोग, ‘रेफुजीस’ का स्वागत करते दिख रहें। यह दावा झूठा हैं, फ़ोटो में खड़े लोगो ने मास्क लगाए हुए हैं और यें समूह फ़्रांस में नही बल्कि यूके के केंट की हैं।

Alt News

सोशल मीडिया पर एक अलग-से दिखने वाले फूल की तस्वीर फिर वायरल हो रही हैं।जिसमें दावा किया जा रहा है कि यह फूल भगवान का भेजा गया एक विशेष फूल है और पचास सालों में केवल एक बार ही खिलता है।पड़ताल में यह दावा फ़र्ज़ी निकला । दरअसल, यह डायनासोर के समय का फासिल ट्री हैं, जो साईकस परिवार का एक पौधा हैं।

Vishvas News

वायरल वीडीयो में दावा किया जा रहा हैं की इरान के लोग अज़रबैजान और अर्मेनिया के बीच हुए युद्ध को लाइव देख रहे हैं। पड़ताल में यह ख़बर झूठी साबित हुई।दरअसल, यह वीडीयो रूस में हर साल मनाये जाने वाले ‘रॅाकेट फ़ोर्सेज़ ऐंड आर्टिलरी डे’ का है। इसे एक रशियन ट्विटर यूज़र ने भी 18 नवम्बर, 2019 को अपलोड किया था।

2020 बिहार इलेक्शन में फ़ेक न्यूज़ का अंबार लगा हुआ हैं। इसी कड़ी में पिछले दिनो एक मोटरसाइकल रैली का वीडीयो बिहार का बता काफ़ी तेज़ी से फैलाया जा रहा था। पड़ताल में पता लगा की यह वीडीयो उप्र विधानसभा चुनाव 2016 का हैं।झाँसी में बीएसपी प्रत्याशी सिताराम कुशवाहा के नामांकन के दौरान वीडीयो बनाया गया था।पड़ताल में यह ख़बर फ़र्ज़ी पायी गयी।

FactCrescendo | The leading fact-checking website in India

2018 का वीडीयो अब हुआ वायरल।शिवराज सिंह चौहान के ख़िलाफ़ एक भ्रामक वीडीयो साझा किया जा रहा है जिसमें लोग “मामा नही कसाई हैं,कंस का जुड़वा भाई” हैं के नारे लगाते दिखाई दे रहें हैं। बूम की पड़ताल में पाया गया की यह वीडीयो भ्रामक हैं,जिसे मप्र उपचुनावों में हाल-फ़िलहाल का बता के वायरल किया जा रहा हैं।

बूम: फ़ेक और वायरल न्यूज़ की फैक्ट चेकिंग, ऑनलाइन न्यूज़ अपडेट

बिहार चुनाव के दौरान एक पोस्ट वायरल हो रही, जिसमें यह दावा किया गया हैं कि योगी आदित्यनाथ को सुनने जनसैलाब उमड़ा और जय श्री राम के नारे लगाए। दरअसल, वायरल तस्वीर नरेंद मोदी की कोलकाता रैली 5 फ़रवरी 2014 की हैं। पड़ताल में यह ख़बर फ़र्ज़ी साबित हुईं।

 

Vishvas News

सोशल मीडिया पर वायरल ख़बर में CTET परीक्षा 2020 के 5 नवंबर को होने का ‘नोटिस’ 21 अक्टूबर से तेज़ी से वायरल हो रहा था। पीआईबी ने अपने फ़ैक्ट चेक में इस नोटिस को झूठा बताया और सीबीएसई द्वारा अगली तारीख़ CTET वेबसाइट पर बताने की बात कहीं।

 

सोशल मीडिया पर वायरल विडीयो में 25 तरह की आवाज़ें निकालने वाली चिड़िया को तमिलनाडु का बताया गया और यूज़र ने यह भी दावा किया की इसे शूट करने में 62 दिन, 16 कैमरामैन लगें।हालांकि विश्वास न्यूज़ की पड़ताल में यह ख़बर झूठी पायी गयी। असल में यह विडीयो आस्ट्रेलिया के एडिलेड चिड़ियाघर का हैं, जिसे कैमरोमैन ने कुछ मिनटों में बनाया था।                               Vishvas News


main

एक हिंदी अखबार की क्लिपिंग को इस दावे के साथ साझा किया जा रहा है कि आतंकवादी ओसामा बिन लादेन की बेटी ज़ोया अगले महीने भोजपुरी गायक प्रदीप मौर्य से शादी करेंगी।

यह खबर सरासर झूठी है क्योकि खबर की तस्वीर में दिख रही महिला पाकिस्तानी मॉडल ‘सायरा यूसूफ’ हैं और लादेन की ग्यारह बेटियों में किसी बच्चे का नाम ज़ोया नहीं है।

Fakeमत – Fakeमत – Page Array – नवभारत टाइम्स


main

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की लैपटॉप के साथ एक तस्वीर वायरल हो रही हैं जो दावा करती हैं कि योगी हाथरस गैंगरेप पीड़िता के अंतिम-संस्कार को लाइव देख रहे हैं जिसको पुलिस द्वारा आनन-फानन में उसी रात को बिना अनुमति के कर दिया गया था।

जबकि तस्वीर मोर्फड है और असल तस्वीर में योगी पीङिता के माता-पिता के साथ वीडियो-कॉन्फ्रेंस पर थे।

Fakeमत – Fakeमत – Page Array – नवभारत टाइम्स

सोशल मीडिया में एक वीडियो द्वारा यह दावा किया जा रहा है कि आगामी बिहार चुनाव के चलते प्रचार में भाजपा नेता को लोगों ने चप्पलों का हार पहनाया।

सच यह हैं कि वीडियो का बिहार से कोई संबन्ध नहीं है, वीडियो मध्य प्रदेश के नगर निकाय, 2018 के चुनाव का हैं जब भाजपा नेता को एक बुजुर्ग ने चप्पलों की माला पहनाई थी।

FactCrescendo | The leading fact-checking website in India

सोशल मीडिया में एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें एक बुजुर्ग भाजपा नेता को जूते की माला पहना रहा है और दावा किया गया है कि वीडियो आने वाले बिहार चुनाव से जुड़ा हुआ है।

तथाकथित सच्चाई यह हैं कि वायरल पोस्‍ट फर्जी हैं और इस वायरल वीडियो का बिहार से कोई संबंध नहीं है क्योकि यह मध्य-प्रदेश की पुरानी वीडियो हैं।

Vishvas News


main

बीते हफ्ते ‘नैशनल टेस्टिंग एजेंसी’ ने ‘नीट 2020 परीक्षा’ के परिणाम घोषित किए जिसमें ओडिसा के ‘शोएब आफताब’ ने टॉप किया हैं। सोशल मीडिया पर इसके बाद से एक मेसेज शेयर किया जाने लगा जिसके मुताबिक, परीक्षा के पहले पांच टॉपर मुस्लिम हैं।

यह दावा गलत है क्योंकि असल में परीक्षा में दूसरा स्थान पाने वाली कैंडिडेट ‘आकांक्षा सिंह’ हैं जो हिन्दू हैं।

Fakeमत – Fakeमत – Page Array – नवभारत टाइम्स

 

सोशल मीडिया पर एक पोस्ट में दावा किया जा रहा है कि एक सप्ताह तक मल्टीविटामिन, विटामिन सी की खुराक लेने से कोरोना संक्रमण से बचाव होगा।

परन्तु पड़ताल में दावे को भ्रामक पाया गया है क्योंकि विटामिन्स को इम्युनिटी बढ़ाने के लिए फायदेमंद माना गया हैं लेकिन इनका कोरोना बचाव से कोई सीधा सम्बन्ध नहीं है जिसको ‘डब्ल्यू-एच-ओ’ ने भी माना हैं।

Vishvas News

शादी के नाम पर धोखा मिलने पर एक महिला का पति के कार्यालय में हंगामे का वीडियो इन दावों के साथ वायरल हुआ कि यह एक हिन्दू महिला है जिसनें एक मुसलमान से शादी की जिसनें बाद में उसे धोखा दिया।

हालांकि दावा फर्जी हैं क्योंकि जहां तक धर्म की बात है, दोनों हिन्दू हैं और घटना में कोई सांप्रदायिक एंगल नहीं है।

बूम: फ़ेक और वायरल न्यूज़ की फैक्ट चेकिंग, ऑनलाइन न्यूज़ अपडेट

सोशल मीडिया पर एक ट्वीट वायरल हो रहा है, जिसमें दावा किया जा रहा है कि कॉलमनिस्ट शेफाली वैद्य ने अपने ट्वीट में विवादास्पद तनिष्क विज्ञापन के खिलाफ अपना आक्रोश दिखाया हैं।

जांच में हमने पाया कि वायरल ट्वीट फर्जी है और शेफाली वैद्य ने ऐसा कोई ट्वीट नहीं किया है। लेकिन उनके द्वारा ट्वीट कर फेक ट्वीट को झूठा जरूर कहा।

Vishvas News

एक वायरल वीडियो में दावा किया जा रहा है कि अटल जी की भतीजी दावा कर रही है कि आरएसएस और बीजेपी अध्यक्ष मोदी मीडिया के साथ मिलकर देश को बर्बाद कर रहे हैं।

पड़ताल में पाया कि वायरल वीडियो का दावा फ़र्ज़ी है क्योंकि वीडियो में दर्शित महिला अटल बिहारी वाजपेयी की भतीजी नहीं बल्कि दिल्ली की एक सामाजिक कार्यकर्ता अतिया अल्वी है।

बूम: फ़ेक और वायरल न्यूज़ की फैक्ट चेकिंग, ऑनलाइन न्यूज़ अपडेट