सोशल मीडिया पर एक वीडियो काफी शेयर किया जा रहा है। इस 30 सेकंड वीडियो में निश्चित समय अंतराल तक सांस लेने रोकने और फिर सांस छोड़ने की प्रकिया दिखाते हुए इस प्रक्रिया को कोरोना संक्रमण का टेस्ट बताया जा रहा है। फैक्ट चेक में आया की वीडियो में दिखाई एक्सरसाइज का कोरोना संक्रमण के टेस्ट से कोई लेना-देना नहीं है। एक्सपर्ट के मुताबिक,ये कोरोना टेस्ट का वीडियो फ़र्ज़ी है

Vishvas News breath corona test fake video

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *